राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने किया चरती लाल गोयल हेरिटेज पार्क का उद्घाटन

भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को ऐतिहासिक लाल किले के ठीक सामने उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा निर्मित चरती लाल गोयल हेरिटेज पार्क का उद्घाटन किया। इस अवसर पर भारत की प्रथम महिला नागरिक व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की धर्मपत्नी सविता कोविंद, दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल, पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद डॉ हर्षवर्धन, सांसद रूपा गांगुली, भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा, दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता, उत्तरी दिल्ली के महापौर राजा इक़बाल सिंह, दक्षिणी दिल्ली के महापौर मुकेश सुर्यान, दिल्ली विधानसभा में नेता विपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी, विधायक विजेन्द्र गुप्ता, उत्तरी दिल्ली नगर निगम में स्थायी समिति के अध्यक्ष जोगी राम जैन, पूर्व महापौर जय प्रकाश, पूर्व महापौर अवतार सिंह, दिल्ली के मुख्य सचिव विजय देव, आयुक्त उत्तरी दिल्ली नगर निगम संजय गोयल व अन्य वरिष्ठ गणमान्य अतिथि उपस्थित रहे।

इस अवसर पर राष्ट्रपति ने चरती लाल गोयल की प्रतिमा पर माल्यार्पण भी किया। कार्यक्रम के दौरान विभिन्न कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए। उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा निर्मित हेरिटेज पार्क का नाम नगर निगम के पूर्व उप महापौर और दिल्ली विधान सभा के पहले अध्यक्ष चरती लाल गोयल के नाम पर रखा गया है। 
 
यह पार्क लगभग 8650 वर्गमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है जिसका निर्माण मुगलकालीन शैली को ध्यान में रखते हुए लाल पत्थरों और लोहे की ग्रिल में समृद्ध नक्काशी द्वारा किया गया है। इस पार्क में मुगलकालीन बारादरी (12 दरवाजे वाला एक मंडप), युवाओं को आकर्षित करने के लिए रंग-बिरंगे फूल और हरी-भरी घास लगाई गई है। सार्वजनिक सुविधाओं जैसे शौचालय, पार्किंग, शॉपिंग काउंटर, डिजाइनर लैंप पोस्ट और फोकस लाइट के साथ, हेरिटेज पार्क आने वाले दिनों में पर्यटकों के लिए एक प्रमुख आकर्षण का केंद्र बन जाएगा। क्योंकि यह आधुनिक सुविधाओं और प्राकृतिक सुविधाओं के साथ विरासत का एक अनूठा मिश्रण प्रस्तुत करता है।
 
परियोजना को पूरा करने के लिए 17.68 करोड़ रुपये की राशि की आवश्यकता थी। पहले चरण में 7.65 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से लगभग 1.75 एकड़ क्षेत्र विकसित किया गया है वही दूसरे चरण में शेष 2.25 एकड़ को 10.03 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से विकसित किया जाएगा। पहले चरण के लिए उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने अपने संसाधनों से 4.70 करोड़ रुपये की व्यवस्था की। शेष राशि के लिए विजय गोयल ने अपने एमपीलैड्स फंड से योगदान दिया है।